पिता बेटी को हर रोज सल्यूट मारते हैं, लॉकडाउन के बीच एक ही थाने में दे रहे हैं DSP बेटी और SP पिता अपनी सेवाएं...

कोरोना वायरस के चलते देशभर में 24 मार्च को 21 दिन का लॉकडाउन घोषित किया गया था. कुछ राज्यों ने इसे 30 अप्रैल तक बढ़ा भी दिया है. लॉकडाउन के चलते जो जहां थे वहीं फंसे रह गए. ऐसा ही मामला मध्यप्रदेश से भी सामने आया है.
दरअसल, मध्यप्रदेश पुलिस में सब इंस्पेक्टर अशरफ़ अली अंसारी वर्तमान में इंदौर के लसूड़िया थाने में अपनी सेवाएं दे रहे हैं. वो एक महीने पहले अपनी बेटी शाबेरा अंसारी से मिलने मध्यप्रदेश के सीधी ज़िला गए हुए थे. लेकिन 24 मार्च को देशभर में लॉकडाउन के एलान के बाद से ही अशरफ़ वहीं फ़ंसे हुए हैं. 
इसके बाद पुलिस मुख्यालय ने लॉकडाउन की वजह से अशरफ़ अली को सीधी ज़िले के मझौली थाने में तैनात कर दिया. अशरफ़ की बेटी शाबेरा अंसारी इसी मझौली थाने की डीएसपी हैं. अब पिता-बेटी की ये जोड़ी एक ही थाने में सीनियर(बेटी) जूनियर(पिता) के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं.
अशरफ़ अली पद में जूनियर होने के नाते डीएसपी बेटी को हर रोज़ सैल्यूट मारते हैं. बेटी जो ज़िम्मेदारी देती हैं वो उन्हें करना पड़ता है. थाने में बेटी-पिता नहीं, बल्कि सीनियर-जूनियर बनकर काम करते हैं. इसके बाद शाम को घर जाकर वही सीनियर बेटी अपने हाथों से पिता के लिए खाना बनाती हैं. 
डीएसपी शाबेरा अंसारी ने बताया कि अशरफ़ अली अंसारी मेरे पिता हैं. वो काफ़ी अनुभवी हैं इसलिए उनसे काफ़ी कुछ सीखने को मिल रहा है. हम दोनों का काम अलग-अलग है, लेकिन मैं दोनों ही जगह अपना दायित्व बराबर से निभाती हूं.
साल 2013 में सब इंस्पेक्टर के पद पर चयनित हुईं. इसके बाद साल 2016 में उन्होंने मध्यप्रदेश पुलिस में सेवा देनी शुरू की. शाबेरा नौकरी के साथ ही पीएससी की तैयारी भी करती रहीं. साल 2016 में उन्होंने पीएससी की परीक्षा पास कर ली और 2018 में डीएसपी पद पर तैनात हो गईं. 
शाबेरा अंसारी 9 दिसंबर 2019 से मध्यप्रदेश के सीधी ज़िले के मझौली थाने में प्रशिक्षु डीएसपी के पद पर कार्यरत हैं. लॉकडाउन के बीच पिता-बेटी की ये जोड़ी मिल जुलकर शानदार कार्य कर रही है.