UP के इन 19 जिलों को 20 अप्रैल से लॉकडाउन में छूट नहीं मिलेगा, CM ने जिलाधिकारियों को दिए बड़े निर्देश

20 अप्रैल से लॉकडाउन के दौरान कुछ सेक्टर्स में काम दोबारा शुरू करने का ऐलान कर दिया गया है, लेकिन सभी जिलों में इसकी इजाजत नहीं है। काफी मंथन के बाद उत्तर प्रदेश के 75 में से 56 जिलों में शर्तों के साथ कुछ सेक्टर्स खुल सकेंगे, लेकिन बाकी 19 जिलों में ऐसा होगा या नहीं, वह संबंधित जिलाधिकारियों के फैसले पर निर्भर करेगा। सीएम योगी ने रविवार शाम समस्त जिलों के डीएम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए लॉकडाउन को लेकर चर्चा की।
इसमें तय हुआ कि 56 जिलों में केंद्र सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक लॉकडाउन से छूट व सुविधाएं दी जाएंगी, लेकिन जिन 19 जिलों में 10 से अधिक कोरोना वायरस के एक्टिव मामले हैं वहां पर छूट देने का फैसला संबंधित जिलाधिकारी करेंगे। साथ ही जिन जिलों को लॉकडाउन में सशर्त काम करने की इजाजत दी गई हैं वहां जिलाधिकारियों व पुलिस कप्तान को निर्देश दिए गए हैं कि वे सोशल डिस्टेंसिंग को सुनिश्चित कराएं। आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1122 हो गई है। इनमें अब तक 17 लोगों ने कोरोना से दम तोड़ दिया है। रविवार को 102 लोगों की कोरोना मेडिकल रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वहीं 49 जिलें इससे प्रभावित हैं।

जिन जिलों को रविवार को हुई बैठक में छूट न देने पर विचार हुआ वह मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, गौतमबुधनगर, बुलंदशहर, सहारनपुर, शामली, आगरा, लखनऊ, फिरोजाबाद, मुरादाबाद, बिजनौर, वाराणसी, अमरोहा, सीतापुर, कानपुर, बस्ती, हापुड़ हैं। इन सभी जिलों में 10 से ज्यादा कोरोना संक्रमित मरीज हैं। ऐसे स्थिति में यहां के उद्योगों, दफ्तरों, सरकारी संस्थान व निजी संस्थान नहीं खुलेंगे। हालांकि आखिरी फैसला अब यहां के जिलाधिकारियों पर होगा।

इसके अतिरिक्त अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने प्रदेश के समस्त पुलिस कमिश्नर व पुलिस अधिक्षकों को लॉकडाउन का अनुपालन व कोविड-19 मरीजों की स्थिति को लेकर निर्देश दिए। इसमें उन्होंने प्रदेश के 40 जिलों में स्थिति पर असंतोष जताया है व कहा कि 35 जिलों की स्थिति संतोषनजक। जहां स्थिति संतोषनजक जनक नहीं हैं उसके पीछे उन्होंने लॉकडाउन का ठीक से अनुपालन न होना, पुलिस के ढीला रवैया व कोरोना वायरस के मिलते मरीजों को कारण बताया है।