लॉकडाउन में अज्ञात कारणों के चलते 10 आवारा कुत्ते हुए मौत का शिकार, लोगों के अंदर सामाया डर

टोहाना के गांव रत्ता खेडा में एक ऐसा मामला सामने आया जहां अचानक दस कुत्तों की मौत से गांव के साथ सरकारी विभाग के पशु चिकित्सक सकते में आ गए है।सूचना मिलने पर विभाग के पशु चिकित्सक गांव में पहुंचे तो पाया कि इन दस कुत्तों के आलावा चार कुत्तों की हालात काफी चिन्ताजनक थी जिसके बाद इन्हें लगातार चिकित्सक की निगाह में रखते हुए इनका इलाज किया गया।
फिलहाल इनकी तबीयत में सुधार की बात कही जा रही है। मौके पर पहुचे डा. विक्रम इंदौरा ने इन कुत्तों का ईलाज किया व कुत्तों की मौत का कारण जानने की अपने स्तर पर कोशिश करते हुए जांच भी की। मौत का शिकार हुए दस कुत्तों को पोस्टमार्टम के बाद दफना दिया गया।  

जानकारी देते हुए पशु चिकित्सक डा. राजेश ने बताया कि जैसे ही उनके विभाग को सूचना मिली कि उनके विभाग के चिकित्सक डा.विक्रम इंदौरा मौके पर पहुंचे व कुत्तों का ईलाज शुरू किया। परंतु कुत्ते पहले ही मौत का शिकार हो चुके थे। इनका पोस्टमोर्टम किया गया तो पाया कि कोई जहरीली वस्तु इन्हें देने का शक है। इसके बारे में लुवास में पशु वैज्ञानिकों से बात की तो उन्होनें भी इसी तरह का शक जाहिर किया। एक ही ऐरिया में ऐसा ही था जहां मौत हुई थी वहां पर एक रोटी का टुकडा भी मिला जिस पर कोई जहरीली वस्तु मिली।

एक साथ एक गांव में एक ही एरिया से इतने कुत्तों का मारा जाना चिंता का विषय है। विशेष तौर पर जब इसमें षडयंत्र नजर रहा हो क्योंकि रोटी का टुकडा जिस पर विषैला पदार्थ मिला है वो यहीं साबित करता है। फिलहाल चार कुत्ते उपचारधीन है देखना ये होगा कि पशु प्रेमी इस मामले में कोई आवाज उठाते है या ये मामला यु ही दफन हो जाता है।