कोरोना के समय पंपू तालाब में 24 घंटे में 50 क्विंटल मछलियां मरीं पाई गईं, जाने ऐसा क्यों

धनबाद के लोको टैंक(पंपू तालब) में बीते 24 घंटे में 50 क्विंटल मछलियां मर गईं। तालाब में सिर्फ और सिर्फ मरी मछलियां दिखीं। तालाब का ऊपरी सतह मरी मछलियों से भर गया। 
गुरुवार से ही मछलियों के मरने का सिलसिला शुरू हुआ, जो कि 24 घंटे में और भयावह स्थिति में पहुंच गया। आशंका है कि किसी ने तालाब में जहर डाल दिया है। हालांकि रेलवे की सूचना पर पहुंची मत्स्य विभाग की टीम ने बताया कि जहर से नहीं बल्कि ऑक्सिजन की कमी से मछलियां मर रही हैं। 

तालाब में अधिक गंदगी के कारण ऑक्सीजन का लेवल लगभग खत्म हो गया है, तभी तो बड़ी मछलियां मर गईं, जबकि छोटी मछलियां जिंदा हैं, क्योंकि इन्हें कम ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है। तालाब में मरी हुई मछलियों के कारण दुर्गंध पैदा हो रही है।