लॉकडाउन के समय लगी आग ने 3 गांवों को ले लिया अपने चपेट में...

भितरवार के पिछोर क्षेत्र में नरवाई में आग लगाने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। कलेक्टर के प्रतिबंध के बाद भी किसान आग लगा रहे हेै। हालांकि एक किसान के खिलाफ नरवाई में आग लगाने के मामले में प्रकरण दर्ज किया जा चुका है। इसके बाद भी किसान मान नहीं रहे है। पिछोर के अंतर्गत आने वाले गांव शंकरपुर, सूखापठा, और गढ़ी में शुक्रवार को नरवाई में आग लग गई। आग से नरवाई जल गई वहीं इस आग ने विकराल रूप ले लिया और क्षेत्र के 10 किमी के दायरे में आग फैल गई।
जानकारी के अनुसार किसी ने गेहूं कटाई के बाद खड़ी नरवाई में आग लगा दी। तेज हवा के साथ आग ने विकराल रूप लेना शुरू कर दिया। कलेक्टर के प्रतिबंध के बाद भी किसान लापरवाह बने हुए है। किसान आए दिन नरवाई आग लगा रहे है। शुक्रवार सुबह पिछोर क्षेत्र के तीन गांव आग की चपेट में आ गए। 7 भूस के कूप को ग्रामीणों ने काफी प्रयासों के बाद बचा लिया। इधर नरवाई के जलाए जाने से भूसा नहीं बन सका। आग पर काबू पाने के लिए पिछोर नगर परिषद से फायर ब्रिगेड भेजी गई। ग्रामीणों की मदद से आग को बुझाया गया।

भितरवार क्षेत्र में करियावटी, बन्हेरी, समचौली, चतर्थी, झड़ौली, ररुआ, निवी आदि गांव में आग लगी। नरवाई में लगी आग से कई किसानों के भूस के कूप जल गए। करियावटी में किसान वीपी तिवारी के यहां एक मढ़ैया में आग लग गई जिसमें रखा भूसा एवं लेजम जल गई। आग से सभी गांवों में 12 से अधिक भूस के कूप जल गए जिससे आर्थिक नुकसान हुआ है। साथ ही पशुओं के लिए चारे की समस्या उत्पन्न हो गई।