80 किलोमीटर पैदल चलकर मंगेतर से शादी करने पहुंची युवती, वरपक्ष देखकर हो गया हैरान

शादी में लॉकडाउन रोड़ा न बने, इसके लिए सरकार ने 20 लोगों की उपस्थिति के साथ इसकी इजाजत दे दी है, लेकिन यहां तो लॉकडाउन के दौरान लड़के पक्ष का मूड ही बदल गया। परिवार ने बेटे का कहीं और विवाह करने का मन बना लिया। लेकिन युवती ने यहां हार नहीं मानी और 80 किलोमीटर पैदल सफर कर वह मंगेतर के घर पहुंच गई। जहां लड़के के घरवालों ने उसको स्वीकार कर वर-वधु की मंदिर में शादी करवाई।
ये मामला कन्नौज जिले के थाना तालग्राम का है जहां बैसापुर निवासी वीरेंद्र कुमार राठौर पुत्र रघुवीर का कानपुर देहात के मंगलपुर थानाक्षेत्र के लक्ष्मनपुर तिलक में रहने वाले गोरेलाल की 20 वर्षीय बेटी गोल्डी से शादी तय हुई थी। शादी के कार्ड भी छप चुके थे और बीती 4 मई को दोनों सात फेरे लेने वाले थे, लेकिन लॉकडाउन के बीच लड़की के घर वालों का वीरेंद्र के साथ शादी करने का इरादा बदल गया। 
मगर गोल्डी वीरेंद्र के प्रेम में बंध चुकी थी और दोनों की फोन पर बातचीत भी होती थी। गोल्डी हर हाल में वीरेंदर से शादी करना चाहती थी। और बुधवार के उसने ठान ली। वह बुधवार सुबह करीब तीन बजे गांव से अकेले मंगेतर के पास पहुंचने के लिए पैदल निकल आईं। 80 किलोमीटर का रास्ता पैदल तय करते हुए वह बैसापुर गांव पहुंचीं। गोल्डी के आगमन से वीरेंद्र व उसके परिजन हैरत में थे, लेकिन आपसी सहमति के बाद दोनों की गाँव के पास स्थित प्राचीन मंदिर में शादी करा दी।