लॉकडाउन में बच्ची को कंधे पर लेकर मां ने तय किया इंदौर से अमेठी तक 900 KM का सफर, स्मृति ईरानी ने किया ऐसी मदद

उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले में एक महिला अपनी बच्ची को कंधे पर लेकर 900 किलोमीटर की दूरी का सफर तय कर इंदौर से अपने घर जगदीशपुर पहुंची। इसकी खबर होने पर अमेठी सांसद एवं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने तत्काल फोन कर परिवार का हाल-चाल पूछा और उसको उनको यथासंभव मदद का भरोसा दिलाया। स्मृति ने सरकारी अमले को कोविड-19 टेस्ट एवं इलाज के लिए निर्देशित किया। साथ ही साथ बीजेपी जिलाध्यक्ष दुर्गेश त्रिपाठी को उक्त परिवार के पास भेज कर खाद्य सामग्री, मास्क, सैनिटाइजर फल इत्यादि के साथ 25 हजार रुपए की सहायता प्रदान की।
मिली जानकारी के अनुसार, जगदीशपुर विधानसभा क्षेत्र निवासी शमसुल निशा के बच्चे अपने परिवार सहित इंदौर में रहते थे और कमाते खाते थे। लॉकडाउन होने के बाद अन्य लोगों की भांति वह भी फंस गए। मील फैक्ट्रियां बंद हो गई। जिससे काम के अभाव में पिछले 45 दिनों से यह लोग किसी तरह से गुजर बसर करते रहे। जब नहीं रहा गया तब इन लोगों ने इंदौर से अमेठी लगभग 900 किलोमीटर की यात्रा पैदल करने की ठानी। 7 मई की शाम 7:00 बजे दो पुरुष एक महिला और एक 3 वर्ष की छोटी सी बच्ची के साथ सामान को लेकर यह लोग इंदौर से पैदल निकल पड़े। 9 तारीख को दोपहर बाद 3:00 बजे अपने घर पहुंच गए। इस बीच महिला अपनी छोटी बच्ची को कंधे पर बैठाकर लगातार चलती रही।
रास्ते में मीडिया के द्वारा जब यह देखा गया तब इसकी खबर छपी कि नन्हीं सी बच्ची को कंधे पर बैठाए महिला अमेठी के लिए जा रही है, जिसका संज्ञान अमेठी सांसद एवं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने लिया और तत्काल अमेठी प्रशासन को इस बात के लिए निर्देशित किया कि तत्काल इनको को राहत सामग्री उपलब्ध कराएं और इनकी जांच तथा दवा इलाज की व्यवस्था करें। इकराम ने बताया कि स्मृति ईरानी की तरफ से हम लोगों को राशन, मास्क, पैसे, सैनिटाइजर इत्यादि दिया गया है, इसके लिए दीदी स्मृति ईरानी को धन्यवाद है।