घर लौट रही महिला की सड़क पर हुई डिलीवरी, प्रसव पीड़ा होने पर ट्रक चालक ने उतार दिया

उत्तर प्रदेश में कानपुर देहात के जैनपुर में ट्रक से उतरे प्रवासी मजदूर की पत्नी का सड़क पर ही प्रसव हो गया। इसके बाद महिला को नजदीक के निजी अस्पताल ले जाया गया। वहां इलाज के बाद महिला और उसकी बच्ची स्वस्थ है। प्रवासी परिवार मुंबई से चंदौली जिले के पपौरा गांव लौट रहा था। 
मुंबई के महाराज नगर में इडली बनाकर बेचने का काम करने वाले चंदौली जिले के पपौरा गांव निवासी पिंटू प्रजापति लॉकडाउन में परिवार समेत मुंबई में फंस गए थे। गर्भवती पत्नी बबिता व डेढ़ वर्षीय बेटे अमन के साथ ट्रक से घर लौट रहे थे। गुरुवार सुबह अकबरपुर कोतवाली क्षेत्र के कानपुर झांसी हाईवे पर जैनपुर पहुंचते ही बबिता को प्रसव पीड़ा होने लगी। इस पर चालक ने प्रवासी परिवार को जैनपुर में ट्रक से उतार दिया। पिंटू पत्नी को अस्पताल ले जाता, इससे पहले ही हाईवे किनारे बबिता का प्रसव हो गया। 
वहां से गुजर रहे लोगों ने नजदीक के श्रीगौरी हॉस्पिटल के स्टाफ को जानकारी दी। कुछ देर में ही अस्पताल कर्मी पहुंच गए। प्रसूता व नवजात बच्ची को अस्पताल ले आए। वहां इलाज के बाद दोनों स्वस्थ है। अस्पताल के सीएमडी डॉ. संजय त्रिपाठी ने बताया कि पति, पत्नी और उनके डेढ़ वर्षीय बच्चे की थर्मल जांच व क्वारंटीन अवधि पूरा करने का प्रमाण पत्र बना है। सीएमओ डॉ. राजेश कटियार को अवगत कराया गया है। प्रसूता को शुक्रवार को अस्पताल से छुट्टी दी जाएगी।

मिली खुशी, अब घर पहुंचने की फिकर

पिंटू प्रजापति ने बताया कि प्रसव पीड़ा से परेशान पत्नी को देखकर बेहद मायूस था। उसकी व गर्भ में बच्चे की सलामती की चिंता हो रही थी। प्रसव के बाद पत्नी व बच्ची ठीक हैं। परेशानी के बीच बच्ची के जन्म की खुशी मिली है। लॉकडाउन में सारे रुपये खर्च हो गए। किसी तरह से भाड़ा वाहन से घर लौटने का जुगाड़ किया था। अब जेब खाली है। घर पहुंचने की फिकर सता रही है।