सामान बेचने निकले रेहड़ी वाले के पीटकर हाथ तोड़ डाले, आरोपी किया गया सस्पेंड

ग्वालियर के भितरवार इलाके में एक रेहड़ी वाले से मारपीट करने वाले दो पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया गया है. इन पुलिसकर्मियों पर आरोप है कि इन्होंने एक रेहड़ीवाले को पीट-पीटकर उसके दोनों हाथ तोड़ डाले. एडीजीपी के निर्देश पर दोनों को सस्पेंड (SUSPEND) कर इनके खिलाफ FIR दर्ज कर ली गई है. कलेक्टर ने आश्वासन दिया है कि पीड़ित की आर्थिक सहायता की जाएगी.
भितरवार कस्बे में रहने वाला सूरज लोहपीटा लोहे का सामान बनाकर अपनी गुजर-बसर करता है. मंगलवार सुबह सूरज अपनी पत्नी और 3 साल की मासूम बेटी को बाइक पर बैठाकर पास के गांव लोहे का सामान बेचने जा रहा था. ग्वालियर-शिवपुरी जिले की सीमा स्थित बनियानी चेक पोस्ट पर पुलिस वालों ने उसे रोका. सूरज ने पुलिस को बताया कि वह पास के गांव में लोहे के सामान देने जा रहा है. लेकिन लॉकडाउन में बाहर निकलने को लेकर पुलिसवालों ने उसके साथ बुरा बर्ताव शुरू कर दिया.

सूरज का आरोप है कि जब उसने पुलिसवालों से बचने की कोशिश की, तो उन्होंने उसे डंडों से पीटना शुरू कर दिया. सूरज की पत्नी ने बीच-बचाव किया तो आरोपी पुलिसकर्मियों ने उसे भी पीटा. इस दौरान इनकी मासूम बेटी रोती रही, लेकिन पुलिस वालों ने  एक न सुनी. सूरज की चीख-पुकार सुनकर आसपास के लोग बड़ी संख्या में पहुंच गए और पुलिस के खिलाफ वहीं धरने पर बैठ गए.
बाद में घटना की सूचना पुलिस के आला अधिकारियों को दी गई. एडीजीपी राजाबाबू सिंह के निर्देश पर दोनों पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर इनके खिलाफ भितरवार थाने में FIR दर्ज की गई है. ADGP ने बताया कि एसपी ने दोनों पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है. फरियादी की शिकायत पर दोनों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कर लिया गया है. उधर, सूरज की हालत बिगड़ने पर उसे भितरवार से ग्वालियर के जयारोग्य अस्पताल में भर्ती कराया गया है. सूरज के दोनों हाथ टूट गए हैं. ये जानकारी लगने पर कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने कहा कि वो पीड़ित परिवार को मुख्यमंत्री राहत कोष से मदद दिलाने के लिए रिपोर्ट तैयार कर भोपाल भेजेंगे.