दूल्हे को लॉकडाउन पास मिलने में हुई देरी, तो दुल्हन बरात लेकर पहुंच गई अपने ससुराल

लॉकडाउन में जो भी शादियां हो रही है वो आम दिनों की शादियों से अलग हैं। लेकिन इन अलग तरह की शादियों में भी कुछ ऐसी शादियां हो रही है जो और शादियों से भी अलग हैं। ऐसी ही एक शादी का मामला सामने आया है जहां दुल्हे को जब बरात ले जाने के लिए पास मिलने में देरी हुई तो दुल्हन खुद बारात लेकर दुल्हे के घर पहुंच गई।
कुशीनगर के पड़रौना थाना क्षेत्र के नंदलाल छपरा वृंदावन की रहने वाली रिंकी कुमारी की शादी 23 मई को गोरखपुर के बेलदारी टोला नौसड़ के रहने वाले अश्विनी कुमार गौड़ से तय हुई थी। दोनों परिवारों ने शादी के लिए टेंट, हलवाई, कार्ड, लाइट व अन्य इंतजाम कर चुके थे, कि कोरोना वायरस ने देश में दस्तक दे दिया।
ऐसे में शादी टालने तक की नौबत आ गई लेकिन लॉकडाउन के चौथे चरण में छूट मिलने के बाद शादी की तारीख नहीं बदली गई। शादी के लिए लड़का पक्ष ने प्रशासन से पास बनवाने के लिए आवेदन किया था, लेकिन वह भी समय पर नहीं बन सका। यह बात जब दुल्हन रिंकी को मालूम हुई तो वह माता-पिता व दो अन्य लोगों को साथ लेकर अपनी ससुराल पहुंच गई। वहां दूल्हे पक्ष के लोगों ने दुल्हन पक्ष के लोगों का स्वागत किया। इसके बाद पंडित ने पूरी रीति-रिवाज के साथ दोनों की शादी संपन्न कराई।
रिंकी ने बताया कि अश्वनी ने बरात ले जाने के लिए आवेदन किया था लेकिन उसे पास नहीं मिल पाया। ऐसे में मैंने तय किया कि खुद गोरखपुर जाकर शादी कर लेंगी। रिंकी ने अपने परिजनों से बात की और फिर दोनों पक्षों ने आपस में बात की। बातचीत के बाद दोनों पक्ष इस तरह शादी के लिए तैयार हो गए। रिंकी अपने माता-पिता और दो अन्य लोगों के साथ अश्वनी के घर पहुंची जहां सादगी के साथ हमारा विवाह दोनों का संपन्न हुआ। दोनों इस शादी से बेहद खुश हैं।