कोरोना क्वारंटाइन केंद्र में सजा मंडप, दुल्हन को लगाई गई मेहंदी, होंगे सात फेरे

कई क्वारंटाइन केंद्र दहशत का पर्याय बने हुए हैं, क्योंकि यहां कोरोना संदिग्धों को रखा जा रहा है, लेकिन मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में पिपरिया के क्वारंटाइन केंद्र का नजारा एकदम जुदा है। क्वारंटाइन केंद्र में मंडप सजा है। मंगलगीत के बीच विवाह उत्सव की तैयारी हो रही है। केंद्र पर क्वारंटाइन युवती का शनिवार को विवाह होगा।
यह संभवता देश का पहला ऐसा क्वारंटाइन केंद्र है, जहां शारीरिक दूरी का पालन करते हुए विवाह की रस्में निभाई जाएंगी। शुक्रवार को दिनभर अधिकारियों सहित यहां क्वारंटाइन किए 40 लोग विवाह की तैयारियों में जुटे रहे। दोपहर में मेहंदी की रस्म हुई। शाम को संगीत कार्यक्रम भी हुआ।

रेखा का विवाह रायसेन जिले के औबेदुल्लागंज के रहने वाले मनीष साहू से तय हुआ था। विवाह के पूर्व 14 मई को पीथमपुर स्थित अपने भाई के घर से रेखा पिपरिया लौटी थी। रेड जोन से लौटने के कारण उसे 15 मई को क्वारंटाइन केंद्र भेज दिया गया।
स्वजन ने जब अधिकारियों को विवाह के बारे में जानकारी दी तो क्वारंटाइन केंद्र पर ही कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए विवाह संपन्न कराने का फैसला लिया गया। दुल्हन रेखा के साथ बुजुर्ग मां व भाभी भी यहां हैं। क्वारंटाइन किए गए सभी 40 लोग कोरोना का भय भूलकर शादी की खुशियों में डूबे नजर आ रहे हैं।
महिलाएं मंगल गीत गा रही हैं और पुरुष बरातियों के स्वागत की तैयारियों में जुटे हैं। रेखा गरीब परिवार से है, इसलिए शादी का खर्च अधिकारी और समाजसेवी उठा रहे हैं।सामाजिक संगठनों ने उपहार सामग्री भी केंद्र पर पहुंचा दी है।