‘मां, मैं अभी आता हूं’ कहकर चला गया था कृष्णा, लौटकर आया तो उसके सर से उठ चुका था साया

‘मां, मैं अभी आता हूं।’ यह कहकर छह वर्ष का कृष्णा लघुशंका के लिए अभी चला ही था कि पीछे से तेज रफ्तार आ रहे एक लोडर ने उस आटो को उड़ा दिया जिसमें उसके मां-बाप बैठे थे। इतनी बड़ी दुनिया में कृष्णा अब अकेला है। वह अपने आटो चालक पिता अशोक चौधरी और मां छोटी के साथ हरियाणा के झज्जर से बिहार के दरभंगा के लिए निकला था। आटो में ईंधन खत्म हो गया तो अशोक साथ लेकर निकले तेल को टंकी में डालने लगे जब आगरा एक्सप्रेसवे पर उन्नाव के निकट यह दुर्घटना हुई और कृष्णा के मासूम सपने सड़क पर खील खील हो गए।
अनाथ कृष्णा अब किससे हिसाब ले। कोरोना तो बात करने से रहा। बिहार उसके मां बाप को रोजी रोटी नहीं दे सका और हरियाणा उन्हें संभाल नहीं सका। इस घटना के अलावा शनिवार को ही 26 अन्य मजदूरों की बलि औरैया में चढ़ गई। मजदूर राजनीति का मोहरा हो गए हैं। हर राज्य उन्हें अपने यहां से ढकेल रहा है। मानवता को एक बार भूल भी जाइए तो भी कोई राज्य यह नहीं सोच पा रहा कि जिन उद्योगों को चलाने का वह दावा कर रहा है, बिना मजदूर वे चलेंगे कैसे।

कोरोना संकट ने पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार की आर्थिक विषमताओं को बुरी तरह उघाड़ कर रख दिया है। परदेसिया वाले लोकगीतों को सुनकर कुलीन वर्ग ताली तो पीटता है लेकिन, इन बेबस, निरीह और निरपराध श्रमिकों को रोजगार नहीं दे पाता। देश के हर राज्य से इन दिनों यूपी, बिहार के लिए मजदूरों का तांता लगा है। कभी कल्पना भी नहीं की गई होगी लेकिन, अब तो मुंबई से आटो बहुत लंबा सफर करके बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश पहुंच रहे हैं। पुलिस उन्हें रोक नहीं रही और प्रशासन उन्हें खाना नहीं खिला पा रहा। मुसीबत में आदमी घर ही भागता है तो हताश निराश मजदूर भी वही कर रहे।

सड़कों पर उमड़े लाचारगी के दृश्य व्यवस्था पर तीखा प्रश्न हैं। आए दिन दुर्घटनाएं हो रही हैं और मजदूरों की जान जा रही है। भूख प्यास से बिलखते मजदूरों को शारीरिक दूरी का ज्ञान रास नहीं आ रहा। इसमें संदेह नहीं कि जहां वे थे, उन्हें वहीं रुकना चाहिए था लेकिन, कोई रोकने वाला भी तो हो। उत्तर प्रदेश के लिए ये प्रवासी बड़ी चुनौती बने हैं। यहां बसें लगाकर उन्हें उनके घर भेजा रहा है। इस समस्या का दूसरा पहलू भी है। भारी संख्या में और हर कोने से आ रहे सभी मजदूरों की जांच कराना अपने में बड़ी चुनौती है। जांच हो नहीं पा रही लिहाजा गांवों तक कोरोना पहुंचने लगा है। इससे वे लोग हैरान हैं जो पचास दिनों से घर में रहने का अनुशासन माने हुए हैं।