क्वारंटाइन सेंटर में गूंजी किलकारी, मजदूर महिला ने बच्चे को दिया जन्म

प्रवासी मजदूरों को रखे गए क्वारंटाइन सेंटर में गूंजी किलकारी। महिला मजदूर ने तीन लड़कियों के बाद स्वस्थ पुत्र को दिया जन्म है। परिवार में खुशी का माहौल। वहीं जच्चा बच्चा दोनों स्वस्थ हैं तथा बेहतर देखभाल के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में रखा गया है। तहसीलदार ने स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों को जच्चा बच्चा की सतत निगरानी के निर्देश दिए है। 
विभाग से मिली जानकारी के अनुसार समीपस्थ ग्राम गोरधा के प्राथमिक शाला में अन्य राज्यों के प्रवास से लौटे मजदूरों को 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन करके रखा गया है । इसी क्वारंटाइन सेंटर में आंध्रप्रदेश के हैदराबाद से लौटे बरातू यादव के परिवार को भी रखा गया है। बरातू यादव की पत्नी गंगोत्री बाई 34 साल ने रविवार को सुबह करीब 11 बजे एक स्वस्थ बालक को जन्म दिया है। 

क्वारंटाइन सेंटर में महिला मजदूर द्वारा बच्चे को जन्म देने की सूचना मिलते ही तहसीलदार एसएल सिन्हा ने स्वास्थ्य विभाग को सूचित कर कर्मचारियों को क्वारेंटाईन सेंटर जाकर महिला मजदूर को आवश्यक चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। 

हालांकि उसकी जंचकी क्वारंटाइन सेंटर में हुई है फि र भी सूचना मिलते ही स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी तुरन्त क्वारंटाइन सेंटर पहुंचे और जच्चे बच्चे की समुचित ईलाज किया। वहीं उसके बेहतर देखभाल के लिए अस्पताल में भर्ती किया गया है। तीन लड़कियों के बाद गंगोत्री बाई द्वारा स्वस्थ बालक को जन्म देने से उसके परिवार एवं गांव के लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई है।