दुर्घटना में मां की हो गई मौत, बिलखते बच्चे को गोद में लेकर अनजान शख्स पूछता रहा...

कोरोना वायरस लॉकडाउन के चलते देशभर से पलायन कर रहे मजदूरों से जुड़ी घटना की एक दर्दनाक तस्वीर यूपी के महोबा से सामने आई है. यहां बीती रात प्रवासी मजदूरों से भरा एक ट्रक अचानक पलट गया. जिससे इसमें सवार 3 महिलाओं की मौत हो गई. बीती रात हुए इस हादसे की एक ऐसी तस्वीर मीडिया के सामने आई जिसे देख हर किसी का दिल भर आया. दुर्घटना स्थल पर एक अनजान शख्स एक रोते बिलखते बच्चे को लेकर यह सोचता दिखा कि इस बच्चे को किसके हवाले छोड़ूं. यह मजदूर सवाल पूछता दिखा, 'इसको यहीं कहीं एडजस्ट करवा दूं?
प्रशासनिक अधिकारियों को, हम भला इसे कहां तक लेकर जा सकते हैं.' इस शख्स ने  बताया कि इस बच्चे के पिता यूपी के झांसी में हैं. बीती रात झांसी-मीरजापुर हाइवे पर इस ट्रक का टायर फट गया और ट्रक सड़क के किनारे एक गड्ढे में जा गिरा.इस हादसे में 30 और 38 साल के बीच की 3 महिलाओं की मौत हो गई और एक दर्जन से ज्यादा लोग घायल हो गए. वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, 'टायर फटने से ट्रक पलट गया. घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जिनमें से 4 की हालत गंभीर है.' 

मृतक महिलाओं में से एक अपने नवजात बच्चे को गोद में लिए हुए थी, गनीमत रही कि इस बच्चे को कुछ नहीं हुआ. अब यह नवजात परिचित चेहरा नहीं दिखने पर लगातार रोता रहा. इस बिलखते बच्चे को गोद में उठाए हुआ शख्स पास ही कहीं रहता है और उसकी यह यात्रा खत्म होने वाली है. इस मजदूर ने बताया, 'हमने इस बच्चे को दूध भी पिलाया है.' आपको बता दें कि रविवार (16 मई) से अब तक उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और बिहार में हुई विभिन्न सड़क दुर्घटनाओं में करीब 18 मजदूर मारे जा चुके हैं. जब से कोरोनावायरस के चलते सरकार ने लॉकडाउन का ऐलान किया है. तब से बेरोजगार हुए  प्रवासी मजदूरों के पलायन का सिलसिला जारी है.

भूखे प्यासे मजदूर पैदल अपने घरों के लिए निकल पड़े हैं. जिसे जहां जैसा साधन मिल रहा है वह उसके जरिए जल्द से जल्द अपने घर पहुंचना चाहते हैं. सार्वजनिक परिवहन के बंद होने के चलते पैदल ही सैकड़ों कि.मी का सफर तय करने वाले मजदूर बीते कुछ दिनों से लगातार सड़क दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं. लखनऊ से 180 कि.मी दूरे औरैया में हुई सडक दुर्घटना में 26 मजदूरों की मौत हो गई थी. इसके बाद यूपी सरकार ने प्रवासी मजदूरों के लिए अपनी सीमाएं सील कर दिया था.