बिहार जा रहे थे दम्पति, लोडर ने ऑटो में मारी टक्कर, मौके पर हुआ मौत, बेहोश समझकर उठाता रहा मासूम

उत्तर प्रदेश के उन्नाव में लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर तेज रफ्तार लोडर ने सड़क किनारे खड़े ऑटो में टक्कर मार दी। हादसे में बिहार राज्य के दरभंगा जिला निवासी दंपति की मौत हो गई, जबकि उनका 6 साल का बेटा बाल-बाल बच गया। हादसे के बाद चालक लोडर छोड़कर भाग गया। माता-पिता की मौत होने से बिलख रहे बच्चे को पुलिस ने किसी तरह संभाला।
उससे परिजनों की जानकारी ली और मृतक के पास मिले फोन नंबर के आधार पर उन्हें घटना की सूचना दी। परिजनों के आने तक बच्चे की देखभाल की जिम्मेदारी चाइल्ड लाइन को दी गई है। बिहार राज्य के दरभंगा जिले के मकमपुर गांव निवासी अशोक चौधरी (35) पुत्र रमेश हरियाणा के बहादुरगढ़ में पत्नी छोटी व 6 वर्षीय बेटे कृष्णा के साथ पिछले दो साल से वहीं किराये पर रहकर खुद का ऑटो चलाता था।
14 मई गुरुवार को वह हरियाणा से पत्नी व बेटे के अलावा गृहस्थी का सामान लेकर अपने ऑटो से ही घर के लिए चल पड़ा। शनिवार सुबह 10 बजे लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर बांगरमऊ कोतवाली क्षेत्र के ग्राम बहलोलपुर गांव के सामने बच्चे कृष्णा को लघुशंका पर पिता ने ऑटो सड़क के किनारे रोका और बेटे को उतार दिया। ऑटो रुकने पर अशोक व उसकी पत्नी, केन में रखा तेल ऑटो के टैंक में भरने लगे।
इसी दौरान लखनऊ की ओर जा रहे तेज रफ्तार लोडर ऑटो से भिड़ गया। इस लोडर में भी काफी संख्या में दूसरे प्रांतों से लौट रहे श्रमिक सफर कर रहे थे। तेज टक्कर से ऑटो पलट गया। हादसे में अशोक व उसकी पत्नी की घटनास्थल पर मौत हो गई। चालक 500 मीटर आगे जाकर लोडर खड़ा कर भाग निकला। उसमें सवार लोग पैदल व अन्य साधनों से रवाना हो गए।
मासूम कृष्णा ने सड़क पर गिरे माता-पिता को बेहोश समझकर काफी देर तक उन्हें उठाने की कोशिश करता रहा। लोगों ने देखा तो मासूम की हालत देख उनकी भी आंखें नम हो गईं। लोगों ने बच्चे को किसी तरह समझाया, इसी दौरान पुलिस भी पहुंच गई। पुलिस कर्मियों ने उसे सहारा दिया और अपने साथ कई घंटे तक पुलिस वाहन में बैठाए रखा। उसे बार-बार यही दिलासा दी कि माता-पिता को इलाज के लिए ले जाया जा रहा है। सहमा बच्चा कई घंटे तक अपना व अपने माता-पिता का नाम भी नहीं बता पाया। बच्चे के सिर से माता-पिता का साया उठा देख पुलिस कर्मी भी भावुक हो गए और उसे भरोसे में लेकर नाम पते की जानकारी ली।