बकरी के खेत में घुसने को लेकर हुआ ऐसा खूनी संघर्ष, एक की हुई मौत

गया के शेरपुर गाव में बकरी के भिंडी के खेत में घुसने को लेकर मंगलवार रात को दो पक्षों में खूनी संघर्ष हुआ। इसमें पांच लोग गंभीर रूप से घायल हो गए, जिनमें से अर्जुन यादव की इलाज के दौरान जय प्रकाश नारायण अस्पताल में मौत हो गई। यह खबर गांव में पहुंचते ही बुधवार को फिर दोनों पक्षों की महिलाएं भिड़ गई। पुलिस ने समझा-बुझाकर मामला शांत कराया। उसके कुछ ही देर बाद घायलों की स्थिति गंभीर होने की सूचना गांव पहुंची तो एक पक्ष ने दूसरे पक्ष के घर के सामने खड़े दो वाहनों को फूंक डाला। 
इस दौरान फायरिग की भी सूचना है पर आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। दोनों पक्षों से 22 लोगों को नामजद और पांच अज्ञात के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। थानाध्यक्ष सागर कुमार ने बताया कि तीन आरोपितों की गिरफ्तारी की गई है। न्यायालय पेश कर जेल भेज दिया गया है। गांव में तनाव को देखते हुए काफी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है। वहीं, चार घायलों का जयप्रकाश नारायण अस्पताल में इलाज चल रहा है।

बताया जाता है कि बकरी खेत में लगी भिंडी की फसल में घुस गई। इस पर खेत मालिक अर्जुन यादव ने मना किया तो दूसरे पक्ष के लोग भिड़ गए। दोनों ओर से गाली गलौज के बाद मारपीट होने लगी। इसमें पांच लोग घायल हो गए। सभी को अनुमंडल अस्पताल ले जाया गया। गंभीर हालत को देखते हुए सभी को गया रेफर कर दिया गया। गया में इलाज के दौरान अर्जुन यादव की मौत हो गई।

कहा जाता है कि दोनों पक्षों के बीच दो साल से भूमि विवाद चला आ रहा है। इसके कारण अक्सर मारपीट होती रहती है। घायलों में झरी महतो पिता स्व. सोमर महतो, विजय यादव पिता नन्हक यादव, समुंद्री देवी पति छेदी यादव, सुनीता देवी पिता विशु यादव शामिल हैं। थानाध्यक्ष ने बताया कि दिलीप कुमार पिता रामचरित यादव, देवरूप यादव उर्फ धुरूप यादव पिता नन्हक यादव, जगलाल यादव पिता स्व. डोमन यादव को जेल भेजा गया है।