क्वारेंटाइन सेंटर में महिला ने दिया बच्ची को जन्म, नन्ही परी की किलकारी सुन मां की आंखों में आंसू

कोरोना वायरस के खौफ के बीच क्वारेंटाइन सेंटर में गर्भवती महिला ने एक बच्ची को जन्म दिया है। अमृतसर से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से क्वांरटाईन सेंटर चिस्दा लौटे रानी रात्रे प्रथम बच्चे के जन्म को लेकर ख़ुशी के साथ हैरान भी है। वह ईश्वर को धन्यवाद देतीं है कि इतनी परेशानी के बाद उनके घर ख़ुशी आई है। क्वारनटाईन सेंटर में बच्ची के जन्म होने पर सभी लोगों ने ताली बजाकर स्वागत किया। खबर जनपद पंचायत जैजैपुर के अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत चिस्दा का है जहां क़वारन्टाइन सेंटर में एक माँ ने बच्ची को जन्म दिया।
जैजैपुर ब्लॉक के ग्राम पंचायत पिसौद निवासी परस राम रात्रे पत्नी रानी रात्रे को लेकर अमृतसर मजदूरी करने गया था। विश्व मे फैले कोरोना वाईरस के चलते पूरा मानव जीवन अस्त व्यस्त हो गया है। बाहर में फंसे सभी मजदूरों को श्रमिक स्पेशल ट्रेन से घर लाने ट्रेन चलाई जा रही है। उसी ट्रेन में अमृतसर से परस राम रात्रे अपने पत्नी को लेकर 13 मई को चाम्पा पहुंचे। यहां से उसे क्वारनटाइन कन्या आश्रम चिस्दा सेंटर भेजा गया, वहीं सेंटर में 17 मई को दोपहर लगभग तीन बजे पत्नी की प्रसव पीड़ा शुरू हो गई, जिसकी सूचना ग्राम पंचायत चिस्दा के उपसरपंच प्रदीप राकेश द्वारा उप स्वास्थ्य केंद्र चिस्दा में दी गई।
सूचना मिलने पर स्वास्थ्य कार्यकर्ता पार्वती कश्यप व मितानिन कॉजल सेंटर पहुंचकर सुरक्षित प्रसव कराई। यहां जच्चा व बच्चा दोनों स्वस्थ है। प्रसव कराने के बाद समय से पहले 8 महीने में बच्चे जन्म होने पर 108 के माध्यम से जांजगीर अस्पताल रिफर कर दिया। पत्नी को जब अचानक से दिक्कत हुई तो कुछ समझ नही आ रहा था, लेकिन सेंटर में मौजूद ग्राम पंचायत के जनप्रतिनिधि व उप स्वास्थ्य कार्यकर्ता, मितानिन ने बहुत साथ दिया।