भुख की ऐसी तड़प : एक पैकेट बिस्किट के लिए मजबूर है मजदूर, देखें फोटो में!

हवा में लहराते ये हाथ एक पैकेट बिस्किट के लिए खिडकी के बाहर है। इनके पेट की आग ४४ डिग्री तापमान में तपती ट्रेन से भी ज्यादा गर्म है। भूख के आगे इन्हे कोरोना का खाफ मामूली नजर आता है। 
कोरोना के संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए देश में चल रहे लॉकडाउन ने प्रवासी मजदूरों को मजबूर बना दिया है। भूखे मजदूरों के धैर्य टूटने की कई घटनाएं जबलपुर मंडल के स्टेशनों में हो चुकी है। 
पहले सतना में खाने के पैकेट के लिए आपस में मारपीट फिर जबलपुर स्टेशन में फूड बेडिंग मशीन तोडकर स्नैक्स लूटने जैसे वाक्ये यह बताने के लिए पर्याप्त है की मजदूरों को सही तरीके से खाना वितरित करने के दावों मे ज्यादा दम नही है।