शादी की पहली सालगिरह पर ही आ गई मौत की ऐसी खबर!

सड़क हादसे के एक घंटे पहले मुकेश अपनी पत्नी पूनम की मोबाइल फोन पर खूब हंसी- ठिठोली के साथ ही यात्रा की दर्द को भी बयां किया था। शादी की पहले सालगिरह की तैयारी की भी चर्चा की थी। भला होनी को कौन टाल सकता है। पत्नी पूनम को भी क्या पता था कि जिस दिन वह एक साथ जीने मरने की कसम खाई थी वह झूठ हो जाएगा और सदा के लिए उसका सुहाग छिन जाएगा।

औरैया में सड़क हादसे में मुकेश विश्वकर्मा की मौत की जानकारी होते ही परिजनों पर मानो बज्रपात हो गया। आस-पास के लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई। उगापुर गांव में मातमी सन्नाटा पसर गया तो अधिसंख्य घरों में चूल्हे नहीं जले। परिवार के लोग औरैया शव लेने के लिए निकल गए। औराई कोतवाली क्षेत्र के उगापुर गांव निवासी श्रीधर का पुत्र मुकेश विश्वकर्मा और पड़ोस का सुनील विश्वकर्मा जयपुर में फर्नीचर का काम करते थे। 
मुकेश तीन माह पहले जयपुर गया था। लॉकडाउन होने के बाद कुछ दिन तक तो मजदूरी में मिले धनराशि से काम चलाया लेकिन इधर दो दिनों से उसका पैसा खत्म हो गया था। वह अपने पिता श्रीधर विश्वकर्मा और मां से भी बात किया था। मां ने उसके खाते में घर से पैसा भेजी थी। यही पैसा देकर ट्रक से वह और पड़ोस का सुनील ट्रक से घर आ रहे थे। औरैया के पास सड़क हादसे में मुकेश की मौत हो गई जबकि सुनील गंभीर रूप से घायल हो गया। 

मुकेश की मौत की जानकारी होते ही परिजनों में कोहराम मच गया। परिजनों के मुताबिक 16 मई को ही मुकेश की शादी हुई थी। पत्नी पूनम की स्थिति तो पागल की तरह हो गई है। वह कभी बेहोश हो जा रही थी तो कभी होश आने पर मुकेश की फोटो को अपनी छाती में लगाकर चिपक जा रही थी। पत्नी का करुण रोदन देख आस-पास खड़े लोग भी अपने को नहीं रोक पा रहे थे।