'जन धन, आधार और मोबाइल के जरिए गरीबों और किसानों के खाते में पहुंचे पैसे'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में 20 लाख करोड़ रुपये के विशेष आर्थिक पैकेज का ऐलान किया है. उन्होंने कहा कि 20 लाख करोड़ रुपये का आर्थिक पैकेज भारत को आत्मनिर्भर बनाएगा. ये पैकेज भारत की जीडीपी का 10 फीसदी है. ये आर्थिक पैकेज किसानों और मजदूरों के लिए है. प्रधानमंत्री ने कहा कि आर्थिक पैकेज से सभी सेक्टर का विकास होगा. वित्त मंत्री राहत पैकेज की विस्तार से जानकारी देगी. उन्होंने कहा कि हमें स्थानीय उत्पादों के ऊपर ध्यान देना है.
हर भारतवासी को लोकल के लिए 'वोकल' बनना है: PM
उन्होंने कहा कि आज से पहले किसी ने भी नहीं सोचा होगा कि सरकारी कार्यालय बंद होने पर भी भुगतान सीधे गरीबों और किसानों को मिल जाएंगे. यह सब जन धन, आधार और मोबाइल से संभव हो पाया है. उन्होंने कहा कि आज से हर भारतवासी को अपने लोकल के लिए 'वोकल' बनना है, न सिर्फ लोकल Products खरीदने हैं, बल्कि उनका गर्व से प्रचार भी करना है. उन्होंने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि हमारा देश ऐसा कर सकता है.

घरेलू कंपनियों को बढ़ावा देना होगा : नरेंद्र मोदी

उन्होंने कहा कि अब भारतीयों को लोकल पर फोकस करना होगा. घरेलू कंपनियों को बढ़ावा देना होगा, तभी भारत आत्मनिर्भर बन पाएगा. उन्होंने कहा कि डिमांड सप्लाई की क्षमता का पूरी तरह से इस्तेमाल किए जाने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भरता के लिए 5 स्तंभ है पहला इकोनॉमी, इंफ्रास्ट्रक्चर, दूसरा टेक्नोलॉजी आधारित सिस्टम, तीसरा हमारी जनसंख्या, चौथा विविधता और भारत में डिमांड, सप्लाई पर फोकस. 

उन्होंने कहा कि ये आर्थिक पैकेज मध्यम वर्ग और उद्योग जगत के लिए भी है. लॉकडाउन का चौथा चरण, लॉकडाउन 4, पूरी तरह नए रंग रूप वाला होगा, नए नियमों वाला होगा. राज्यों से हमें जो सुझाव मिल रहे हैं और उनके आधार पर लॉकडाउन 4से जुड़ी जानकारी भी 18 मई से पहले दी जाएगी.