दुकान खुली देखकर सिपाही ने फेंक दिया सामान, केमिकल गिरने से दो बच्चे झुलसे

आलीपुर खेड़ा कस्बे में दुकान खुली देख सिपाही ने सामान फेंक दिया। इस दौरान केमिकल गिरने से दो किशोर झुलस गए। दोनों को इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया।  मामला तूल पकड़ता देख अधिकारी मौके से चलते बने लॉकडाउन का पालन कराने के लिए पुलिसकर्मी जमकर लाठियां फटकार रहे हैं। मंगलवार को कुछ ऐसा ही आलीपुर खेड़ा कस्बे में हुआ। मंगलवार सुबह एसडीएम सुधीर कुमार व सीओ प्रयांक जैन पुलिस फोर्स के साथ कोरोना पॉजिटिव युवक के गांव रकरा जा रहे थे। 
आलीपुर खेड़ा डीएवी इंटर कॉलेज के पास स्थित इलेक्ट्रॉनिक की दुकान के पास काफिला रुक गया। आरोप है कि इस दौरान सीओ का एक हमराह डंडा लेकर नीचे उतरा और दुकान में मानकों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए दुकान पर मौजूद देवांश मिश्रा (16) व ऋषभ (17) पर डंडा चला दिया। सिपाही दुकान में रखे सामान को फेंकने लगा। देवांश के अनुसार इससे दुकान में रखा केमिकल दोनों के ऊपर गिर पड़ा। इससे दोनों चचेरे भाई झुलस गए।

किशोर का आरोप है कि सिपाही ने दोनों भाइयों के साथ मारपीट भी की। बच्चों के झुलसते ही आसपास के दुकान मौके पर एकत्रित हो गए। घबराए अधिकारी भी मौके से खिसक लिए। इंस्पेक्टर पहुप सिंह केमिकल से झुलसे देवांश उपचार के लिए जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। रिषभ को भी उपचार दिलाया गया।

अफसरों ने मान लिया अपनी गलती

केमिकल गिरने से झुलसा देवांश क्षेत्र के प्रमुख व्यवसाई सुनीत मिश्रा का पुत्र है। ऋषभ उनका भतीजा है। किशोर पर तेजाब गिरने की घटना के बाद अधिकारी पीड़ित पक्ष के घर पहुंचे और अचानक हुआ हादसा बताते हुए गलती मानी। अफसरों को गलती का अहसास होने की बात कहते हुए पीड़ित पक्ष की ओर से कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की गई।