सड़क पर बिखरी पड़ी है पूड़ी और सब्जी, बस के पहियों के नीचे खत्म हो गई जिंदगी

देश में कोरोना की वजह से जारी लॉकडाउन के बाद हजारों की संख्या में श्रमिक, मजदूर सड़कों पर हैं और पैदल की सैंकड़ों किलोमीटर की दूरी तय कर अपने गांव पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं। कई मजदूर ऐसे हैं जिनकी किस्मत में शायद घर पहुंचना लिखा ही नहीं है और रास्ते में उनकी जिदंगी खत्म हो गई। गुरुवार को एक ऐसा ही हादसा मुजफ्फरनगर में हुआ जहां पैदल अपने घरों की तरफ जा रहे 6 मजदूरों को एक रोडवेज की बस ने कुचल दिया। हादसे में 6 लोग घायल भी हुए हैं।
हादसे के बाद जो तस्वीरें सामने आ रही हैं वो और भी दर्दनाक हैं। पंजाब से लौट रहे ये मजदूर पैदल बिहार जा रहे थे और इन्हें भी ये मालूम नहीं होगा कि वो घर की तरफ नहीं बल्कि मौत के करीब जा रहे हैं। जो वक्त की रोटी के जिस शहर, जिस गांव को छोड़कर चले थे, उसे अंतिम बार देख भी नहीं सके और बस के पहियों के नीचे दबी जिंदगी ने एक ही पल में सबकुछ छीन लिया। एनबीटी के मुताबिक, जब ये हादसा हुआ उस समय ये मजदूर हाथ में खाना रखकर खाते हुए चल रहे थे।

आपको याद होगा कि कुछ दिन पहले जब महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक मालगाड़ी के नीचे आकर 17 मजदूरों की जान चले गई थी तो उस समय वहां पटरियों पर रोटियां बिखरी हुईं थी। कुछ इसी तरह का मंजर इस बार सड़क पर था जहां हाइवे पर जगह-जगह सब्जी पूड़ी बिखरी हुई थी। .यही नहीं मजदूरों के चप्पल, बैग और सामान भी सड़क के किनारे बिखरा हुआ है। मजदूर को क्या पता था कि इस रात की सुबह नहीं होनी वाली है। 

पुलिस ने रोडवेज बस के ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया गया है जो फिरोजाबाद के सुहागनगर का रहने वाला है। मुजफ्फरनगर के एडीएम आलोक कुमार ने बताया, '6 लोग जो मारे गए हैं वो बिहार के थे। शवों का पोस्टमार्टम हो चुका है और उनके शवों को बिहार भेजा जा रहा है। चार लोग इस हादसे में घायल हुए हैं जिनमें से दो को अस्पताल से प्राथमिक उपचार के बाद ही छुट्टी मिल गई है। बस ड्राइवर को अरेस्ट कर लिया गया है।'