लॉकडाउन में सड़क पर पड़े मिले सैंकड़ों ब्लड़ सैंपल्स, लोगों में फैल गई दशहत

उत्तर प्रदेश के शामली में लॉकडाउन के बीच सड़क किनारे भारी मात्रा में ब्लड सैंपल पड़े मिलने से सनसनी फैल गई। सड़क और नाले में पड़े ब्लड़ सैंपल को देख दशहत में आए ग्रामीणों ने पुलिस को इसकी सूचना दी। सूचना पर पहुंची पुुलिस ने सुरक्षित ढ़ंग से ब्लड़ सैंपल को इकट्ठा करते हुए अधिकारियों को मामले की सूचना दी है। कोरोना महामारी के बीच खुले में पड़े मिले ब्लड सैंपल लोगों में तरह-तरह की शंकाए भी पैदा कर रहे हैं।
जिले के थाना आदर्श मंडी क्षेत्र में भारी मात्रा में ब्लड सैंपल ट्यूब खुलेआम सड़क और नाले में पड़े मिले। आशंका व्यक्त की जा रही है कि यें सैंपल अवैध रूप से चलने वाली किसी लैब या फिर ब्लड़ बैंक के भी हो सकते हैं। फिलहाल स्वास्थ्य विभाग को प्रभावी ढ़ंग से पूरे मामले की जांच पड़ताल करने की जरूरत है, क्योंकि इस तरह की लापरवाही महामारी को सीधे तौर पर दावत देने वाली साबित हो सकती है।
खुले में भारी मात्रा में ब्लड़ सैंपल मिलने की घटना जिले के थाना आदर्श मंडी क्षेत्र के गांव सिलावर की है। यहां गांव के रेलवे स्टेशन के नजदीक सड़क किनारे और नाले में भारी मात्रा में ब्लड़ सैंपल पड़े हुए मिले। सैंकड़ों ब्लड़ सैंपल एक साथ पड़े होने के चलते दहशत में आए ग्रामीणों ने मामले की सूचना डायल 112 पर पुलिस को दी। सूचना पर पुलिस की पीआरवी गाड़ी में पहुंचे पुलिसकर्मियों ने खुले में पड़े सैंपल को सुरक्षित तरीके से इकट्ठा करते हुए आलाधिकारियों को मामले की जानकारी दी।
सिलावर के ग्रामीण प्रवीण ने बताया कि मौके पर गांव की सड़क और नाले में सैंकड़ों की संख्या में ब्लड़ सैंपल पड़े हुए हैं, जिन्हें देखकर लोग में दहशत बनी हुई है। ग्रामीण ने बताया कि इस तरह गांव के नजदीक ब्लड़ सैंपल डालने का उद्देश्य क्या हो सकता है। इसकी जांच पड़ताल जरूरी है। फिलहाल पुलिसकर्मियों ने सड़क किनारे पड़े ब्लड सैंपलों को इकट्ठा करते हुए आलाधिकारियों को मामले की सूचना दे दी है।
इतनी भारी मात्रा में ब्लड़ सैंपलों का खुले में पड़ा होना लोगों में बीमारियां फैलाने के लिए काफी है। स्वास्थ्य विभाग की गाइड लाइन के मुताबिक ऐसा करना अपराध है। फिलहाल यह आशंका व्यक्त की जा रही है कि यह जिले में अवैध रूप से चलाई जा रही किसी लैब या फिर ब्लड़ बैंक की करतूत भी हो सकती है, क्योंकि जिले में पूर्व में कई बार खून की कालाबाजारी की घटनाएं भी सामने आ चुकी है। मामले की जांच पड़ताल के बाद ही पूरा सच सामने आ सकता है।