लॉकडाउन में नहीं मिली एंबुलेंस तो पत्नी को गोद में उठाकर ले गया अस्पताल

गहिलू गांव में छत से गिरकर घायल हुई महिला को अस्पताल ले जाने में पति को काफी मशक्कत करनी पड़ी। काफी देर तक 108 नंबर डायल किया़ लेकिन एंबुलेंस नहीं मिली तो उसे गोद में ही लेकर अस्पताल की ओर पैदल चल निकला। रास्ते में बाइक सवारों से लिफ्ट ली और किसी तरह सीएचसी पहुंचा जहां से महिला को कानपुर रेफर कर दिया गया।
गहिलू गांव निवासी अनुज कुमार की पत्नी 27 वर्षीय रंगोली मंगलवार शाम को छत पर रेलिग न होने की वजह से चक्कर आने पर वह नीचे आ गिरी। घायल पत्नी को अस्पताल ले जाने के लिए अनुज ने कई बार 108 नंबर डायल कर एंबुलेंस मांगी, लेकिन सभी एंबुलेंस व्यस्त होने की बात कह मदद से इंकार कर दिया गया। इसके बाद मजबूर होकर वह पत्नी को गोद में लेकर ही सीएचसी की तरफ चल पड़ा।

रास्ते में बाइक सवारों की मदद से वह आरपीएस इंटर कॉलेज तक पहुंचा। यहां से करीब एक किलोमीटर फिर वह पत्नी को गोद में लेकर सीएचसी पहुंच सका। यहां डॉ. आशीष मिश्रा ने उसे देखा तो दोनों पैर टूटे होने के साथ ही कमर में चोट की बात कहते हुए कानपुर के लिए रेफर कर दिया। चिकित्सा अधीक्षक डॉ. लोकेश शर्मा ने बताया कि एंबुलेंस का संचालन लखनऊ कंट्रोल रूम से होता है। किस कारण से एंबुलेंस नहीं मिली पता कराया जाएगा।