बेटी को बचाने के लिए गई मां भी उसके साथ ही डूब गई, दोनों की हुई मौत

नदी में नहा रही बेटी जब डूबने लगी तो उसे बचाने के लिए मां आगे आई, लेकिन गहरे पानी में उतरने से दोनों की मौत हो गई। मांं-बेटी की मौत से गांव में सन्नाटा पसर गया। किसी को विश्वास नहीं हो रहा था कि अब मां-बेटी इस दुनिया में नहीं हैं।
टोंकखुर्द तहसील के चौबाराधीरा के नजदीक गांव भूतेश्वर छाया की 11 वर्ष की नीलम व उसकी मां बबीता बाई(28) वर्ष नदी में कपड़े धोने गए थे। इस दौरान बेटी नीलम नहाने के लिएनदी में उतर गई। नदी में बेटी का पैर फिसलने से वह गहरे पानी में चली गई। बेटी को बचाने में मां भी नदी के गहरे पानी चली गई, मां ने काफी संघर्ष करा लेकिन वो खुद भी गहरे पानी में डूब गई। जब काफी देर हो गई तो पति बाबू पूरी वहां पहुंचे तो चट्टान पर सिर्फ कपड़े वह बाल्टी रखी हुई थी। 

मां बेटी नहीं दिखाई दिए तो बाबू पूरी ने गांव वालों को एकत्र करके चट्टान के पास की खाई में उन्हें खोजा। वहां से दोनों को निकाला तो दोनों ही की ही मौत हो गई थी। बालोन पुलिस चौकी द्वारा मर्ग कायम करके पोस्टमार्टम के लिए शव टोंकखुर्द प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया। बाबू पूरी मजदूरी करते हैं व उनका एक 12 वर्ष का बेटा नागेश भी हैं। मां बेटी मृत्यु होने के बाद में घर में अब दो ही सदस्य बचे हैं।