WHO ने दिया चेतावनी : भारत के लिए खतरनाक साबित हो सकती है लॉकडाऊन में ऐसी ढील

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने लॉकडाउन में ढील को लेकर भारत समेत कुछ अन्य देशों को सतर्क रहने की चेतावनी दी है। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों पर चिंता व्यक्त करते WHO ने चेतावनी देते हुए कहा है कि सरकारों को प्रतिबंधों में ढील देते समय बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है। 'कोविड-19' पर WHO की नियमित प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक प्रश्न के उत्तर में संगठन के स्वास्थ्य आपदा कार्यक्रम के कार्यकारी निदेशक डॉ. माइकल जे. रेयान ने कहा कि लगभग सभी देशों में नए मामले बढ़ रहे हैं जबकि कुछ देशों में कम भी हो रहे हैं। संख्या के साथ ही उन देशों में इस महामारी से आसन्न खतरे को देखते हुए वह सबसे ज्यादा भारत, रूस, बंगलादेश, अफगानिस्तान, सूडान, फिलिस्तीन, यमन जैसे देशों तथा दक्षिण और मध्य अमेरिका जैसे क्षेत्रों को लेकर चिंतित हैं।  
उन्होंने कहा कि पिछले एक सप्ताह में अफगानिस्तान में कोरोना के मामले 76 प्रतिशत और सूडान में 145 प्रतिशत बढ़ गए हैं। फिलिस्तीन में इससे होने वाली मौतों में 100 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। यमन में मामले कम हैं लेकिन समुदाय के स्तर पर यह महामारी फैलनी शुरू हो गई है। यूरोप में नए मामले घट रहे हैं, लेकिन रूस में बढ़ रहे हैं। दक्षिण एशिया में बंगलादेश और भारत में मामले बढ़ रहे हैं। उल्लेखनीय है कि पिछले तीन दिन में भारत में 10400 से अधिक नए मामले सामने आ चुके हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, 4 मई की सुबह आठ बजे तक कुल 42,533 मामले थे जो 7 मई की सुबह आठ बजे बढ़कर 52,952 पर पहुंच चुके हैं। इस दौरान इस बीमारी से मरने वालों की संख्या भी 1,373 से बढ़कर 1,783 हो चुकी है। WHO की तकनीकी प्रमुख मरिया वैन केरखोव ने कहा कि सिर्फ संख्या के आधार पर देशों की तुलना नहीं की जा सकती।

WHO के अनुसार एक देश जहां ज्यादा जांच की जा रही है और संख्या अधिक है और दूसरा देश जहां कम जांच हो रही है और संख्या कम है उनकी आपस में तुलना करना गलत होगा। उन्होंने कहा कि मामलों को तेजी से बढ़ने से रोकने के लिए कई देशों को लॉकडाउन लागू करना पड़ा था। उन्होंने कहा कि प्रतिबंधों में ढील देते समय बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है। उससे पहले स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत करना होगा और सरकारों को यह देखना होगा कि उनके पास संदिग्धों की पहचान, उनके संपर्क में आने वाले लोगों की पहचान और उनकी जांच तथा उन्हें क्वारंटाइन करने के पर्याप्त साधन हैं। 
यदि हमने इस वायरस को कोई भी मौका दिया तो इसका संक्रमण दोबारा बढ़ सकता है। इससे पहले WHO के महानिदेशक डॉ. तेद्रोस गेब्रियेसस ने कहा कि इस महामारी ने राष्ट्रीय स्तर पर तथा देशों के भीतर विभिन्न स्तरों पर स्वास्थ्य तंत्र को मजबूत बनाने की आवश्यकता को रेखांकित किया है। उन्होंने कहा, “यह महामारी समाप्त हो जाएगी, लेकिन हमें नये तौर-तरीकों को अपनान होगा। हमें अगली महामारी के लिए अभी से तैयारी शुरू कर देनी होगी। यही मौका है कि हम पूरी दुनिया में मजबूत स्वास्थ्य तंत्र की नींव रखें। लंबे समय से हमने इसकी उपेक्षा की है। कोविड-19 हमें यह सिखाता है कि भविष्य में लोगों की जान बचाने के लिए हमें वर्तमान में स्वास्थ्य पर निवेश करना होगा।”