'हमलोग जेल जाने के लिए करते हैं चोरी, वहां मुर्गा, मछली और पनीर फ्री में खाने को मिलता है'

बिहार के कैमूर जिले में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. यहां पर कुछ चोर इसलिए चोरी करते हैं ताकि जेल में जाने पर उन्हें भरपेट खाना मिल सके. खास बात यह है कि पकड़े जाने पर चोरों ने एसपी के सामने ये बातें कही हैं. चोरों ने एसपी के सामने चोरी करने की बात स्वीकार करते हुए कहा कि सर हम लोग मुर्गा, पनीर खाना चाहते हैं. लेकिन जेल में बिना काम किए ही अच्छा खाना मिल जाता है. साथ ही जेल में तरह-तरह के पकवान भी फ्री में खाने को मिले जाते हैं तो क्यों न जाए जेल जाएं. दरअसल, पुलिस ने चोरी कांड का खुलासा करते हुए बताया कि 23 जून को करमचट थाने के थिलौई गांव स्थित एक घर में चोरी हुई थी. इसमें चोरों ने लाखों रुपए के जेवर सहित नगदी रकम चोरी की थी. चोरी के आरोप में 8 चोर गिरफ्तार किए गए, जिसमें एक दुकानदार भी शामिल है. साथ ही पांच लाख के जेवर भी बरामद हुआ है .
चोरी के आरोप में गिरफ्तार गुड्डू मुसहर ने बताया कि घर में काम करने वाला नौकर ने खुद पैसे के लालच में चोरी कराया था. हम भी पैसे के लालच में पड़ गए. घर पर रहते हैं तो हमे कोई काम भी नहीं देता है. गरीबी के कारण रूखे- सूखे खाना खाना पड़ता है. किसी मामले में जेल जाते हैं भरपेट खाना मिलता है. उसने कहा कि जितने दिन जेल में रहते हैं अच्छा खाना का व्यवस्था हो जाता है. कहा जा रहा है कि पकड़े गए कई चोर पेशेवर हैं जो काम करना नहीं चाहते बल्कि चोरी इसलिए करते है कि जेल जाएंगे तो वहां मुर्गा ,मछली और पनीर खाने को मिलेगा. इन चोरों का कहना है कि चोरी कर जेल जाते हैं तो अच्छा खाना मिलता है. वहीं, एक ने बताया कि हम मर्डर कर के जेल में जाते हैं तो आवभगत बढ़ जाता है.

जिले के एसपी दिल नवाज अहमद ने बताया कि करमचट थाना में घर में भीषण चोरी का मामला दर्ज कराया गया था, जिसमें पांच लाख रुपये के जेवर और पैसे की चोरी हुई थी. वैज्ञानिक अनुसंधान से मामले का खुलासा हुआ और 7 चोरों को गिरफ्तार किया गया. उनकी निशान देही पर दुकानदार को भी पकड़ा गया जहां से पांच लाख रुपये कीमत के जेवर और 16 हजार रुपए बरामद हुए. पुलिस मामले की जांच में जुटी है कि चोर गिरोह में और कितने लोग शामिल हैं. और कहां- कहां चोरी की घटना का अंजाम दिया है.